लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो – भजन (Lakho Mehfil Jahan Me Yun Too)

jambh bhakti logo

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

स्वर्ग सम्राट हो या हो चाकर,
तेरे दर पे है दर्ज़ा बराबर,
तेरी हस्ती को हो जिसने जाना,
कोई आलम में आखिर नहीं है ॥

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

दर बदर खाके ठोकर जो थककर,
आ गया गर कोई तेरे दर पर,
तूने नज़रों से जो रस पिलाया,
वो बताने के काबिल नहीं है ॥

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

जीते मरते जो तेरी लगन में,
जलते-रहते विरह कि अगन में,
है भरोसा तेरा हे मुरारी,
तू दयालु है कातिल नहीं है ॥

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

तेरा रस्ता लगा चस्का जिसको,
लगता बैकुण्ठ फीका सा उसको,
डूब कर कोई बाहर ना आया,
इस में भवरे है साहिल नहीं है ॥

श्री जानकीनाथ जी की आरती (Shri Jankinatha Ji Ki Aarti)

बजरंगी सरकार, द्वार तेरे आए: भजन (Bajrangi Sarkar Dwar Tere Aaye)

माखन खा गयो माखनचोर: भजन (Makhan Kha Gayo Makhan Chor)

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

कर्म है उनकी निष्काम सेवा,
धर्म है उनकी इच्छा में इच्छा,
सौंप दो इनके हाथों में डोरी,
यह कृपालु हैं तंग दिल नहीं हैं ॥

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

लाखों महफिल जहाँ में यूँ तो,
तेरी महफिल सी महफिल नहीं है ॥

आरती कुंजबिहारी की | आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन | श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं | आरती श्री बाल कृष्ण जी की | ॐ जय जगदीश हरे | मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं | कृष्ण भजन | अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं | श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment