हरि कर दीपक, बजावें संख सुरपति: आरती (Hari Kar Deepak Bajave Shankh Surpati)

jambh bhakti logo

हरि कर दीपक,
बजावें संख सुरपति,
गनपति झाँझ,
भैरों झालर झरत हैं ।
नारदके कर बीन,
सारदा गावत जस,
चारिमुख चारि वेद,
बिधि उचरत हैं ॥

षटमुख रटत,
ससहस्रमुख सिव सिव,
सनक-सनंदनादि,
पाँयन परत हैं ।
बालकृष्ण तीनि लोक,
तीस और तीनि कोटि,
एते शिवशंकरकी,
आरति करत हैं ॥

हम शरण तेरी आए है झुकाने को ये सर - भजन (Hum Sharan Teri Aaye Hai Jhukane Ko Ye Sar)

दिल की कुटिया, में मेरी आ जाओ: भजन (Dil Ki Kutiya Mein Meri Aa Jao)

आज मिल्या मौका, भोले के दर्शन पाने का: भजन (Aaj Mila Mauka Bhole Ke Darshan Pane Ka)

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment