Category: आरती एवं भजन

शेयर करे :

Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp

भजन :- पापिडा रे मुख सूं राम नहीं निकले,तू गुण थे गोविंद रा गाय,तेने अजब बनायो भगवान,हंसा सुंदर काया रो मत कर अभिमान

भजन :- पापिडा रे मुख सूं राम नहीं निकले पापीड़ा के मुख सू राम नहीं निकले केशर धूल रही गारा में । मिनख जमारो ऐलो

Read More »

भजन :- मै तो जोऊ रे सांवरिया थारी बाट,म्हारो बेडो लगा दीजो पार,मनवा राम सुमर ले

भजन :- मै तो जोऊ रे सांवरिया थारी बाट जोऊ रे सांवरिया थारी बाट वैरागण हरि रे नाम री। उड़जा रे केसरिया काला काग मढाऊ

Read More »

भजन :- सांवरा थारा नाम हजार,नाचे नंदलाल नचावे हरी की मैया,सुण सुण रे सत्संग री बाता,ओढ़ चूनर में गई सत्संग में

भजन :- सांवरा थारा नाम हजार सांवरिया थारा नाम हजार कैसे लिखू कू कं पत्री । कोई कहे कान्हो कोई कहे कृष्णो । कोई कहे

Read More »

भजन :- मत ले जिवडा नींद हरामी,कैसो खेल रच्यो मेरे दाता, दो दिन का जग में मेला सब चला ,मोड़ो आयो रे सांवरिया थे म्हारी

भजन :- मत ले जिवडा नींद हरामी मतले जिवड़ा नींद हरामी, थोडे जीवणा में काई सोवे । थारे घर में घोर अंधेरो, पर घर दिवला

Read More »

भजन :- आणद हियो रे अपार पिपासर नगरी में।,म्हाने आछो लागे महाराज दर्शन जांभ जी रो,गुरूजी थासूं मिलन रो माने कोड

भजन :- आणद हियो रे अपार पिपासर नगरी में। आणद हुओ अपार पीपासर नगरी में । खुशी भये नर नार पीपासर नगरी में ।।टेर।। पीपासर

Read More »

भजन :- गिरधर गोकुल आव ,जंभेश्वर भगवान म्हाने दर्शन दो जी आय, भजन :- गावो गावो ए सईयां म्हारी गितड़ला

भजन :- गिरधर गोकुल आव  गिरधर गोकुल आव गोपी संदेशो मोकलो । मोहि दरशण रो राव, प्रेम पियारा कानजी ।टेक । थारे माथे मुकुट सु

Read More »

शेयर करे :

Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp

जांभोजि द्वारा किए गए प्रश्न बिश्नोई समाज के बारे में?

 जांभोजि द्वारा किए गए प्रश्न बिश्नोई समाज के बारे में? भगवान श्री जाम्भोजी और उनके परम शिष्य रणधीर जी का प्रश्नोत्तर दिया गया है जिसका

Read More »