भजन :- पापिडा रे मुख सूं राम नहीं निकले,तू गुण थे गोविंद रा गाय,तेने अजब बनायो भगवान,हंसा सुंदर काया रो मत कर अभिमान

भजन :- पापिडा रे मुख सूं राम नहीं निकले पापीड़ा के मुख सू राम नहीं निकले केशर धूल रही गारा में । मिनख जमारो ऐलो

भजन :- सांवरा थारा नाम हजार,नाचे नंदलाल नचावे हरी की मैया,सुण सुण रे सत्संग री बाता,ओढ़ चूनर में गई सत्संग में

भजन :- सांवरा थारा नाम हजार सांवरिया थारा नाम हजार कैसे लिखू कू कं पत्री । कोई कहे कान्हो कोई कहे कृष्णो । कोई कहे

भजन :- मत ले जिवडा नींद हरामी,कैसो खेल रच्यो मेरे दाता, दो दिन का जग में मेला सब चला ,मोड़ो आयो रे सांवरिया थे म्हारी

भजन :- मत ले जिवडा नींद हरामी मतले जिवड़ा नींद हरामी, थोडे जीवणा में काई सोवे । थारे घर में घोर अंधेरो, पर घर दिवला

भजन :- आणद हियो रे अपार पिपासर नगरी में।,म्हाने आछो लागे महाराज दर्शन जांभ जी रो,गुरूजी थासूं मिलन रो माने कोड

भजन :- आणद हियो रे अपार पिपासर नगरी में। आणद हुओ अपार पीपासर नगरी में । खुशी भये नर नार पीपासर नगरी में ।।टेर।। पीपासर

No more posts to show
Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Blogs

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Ut elit tellus, luctus nec ullamcorper mattis, pulvinar dapibus leo.