मेरी मैया जी कर दो नज़र: भजन (Meri Maiya Ji Kardo Nazar)

jambh bhakti logo

मेरी मैया जी कर दो नज़र,
ज़िन्दगी मेरी जाए संवर,
मेरी मईया जी कर दो नज़र ॥

तेरे द्वारे हूँ कबसे खड़ी,
हाथ फूलों की लेकर लड़ी,
आस दिल में है दीदार की,
मैं हूँ प्यासी तेरे प्यार की,
देख दामन ये खाली मेरा,
मेरी मईया जी कर दो नज़र,
ज़िन्दगी मेरी जाए संवर,
मेरी मईया जी कर दो नज़र ॥

है महामाया माँ तार दे,
शारदे शारदे शारदे,
चूम लूँ मैया तेरे चरण,
सारे दुख दर्द हो जा हरण,
बस इतनी कृपा करदे माँ,
तेरी चौखट ही हो मेरा घर,
मेरी मईया जी कर दो नज़र,
ज़िन्दगी मेरी जाए संवर,
मेरी मईया जी कर दो नज़र ॥

तेरे दर की पुजारन रहूं,
मैं सदा ही सुहागन रहूं,
तेरा सिंगार करके सदा,
मांग सिंदूर से मैं भरूं,
माँ की भक्ति में बेनाम की,
ज़िन्दगी सारी जाए गुज़र,
मेरी मईया जी कर दो नज़र,
ज़िन्दगी मेरी जाए संवर,
मेरी मईया जी कर दो नज़र ॥

मेरी मैया जी कर दो नज़र,
ज़िन्दगी मेरी जाए संवर,
मेरी मईया जी कर दो नज़र ॥

वैकुण्ठ चतुर्दशी प्रचलित पौराणिक कथा! (Vaikuntha Chaturdashi Pauranik Katha)

बड़े मान से जमाना, माँ तुमको पूजता है: भजन (Bade Maan Se Zamana Maa Tujhe Pujata Hai)

घनश्याम तेरी बंसी, पागल कर जाती है - भजन (Ghanshyam Teri Bansi Pagal Kar Jaati Hai)

दुर्गा चालीसा | आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी | आरती: अम्बे तू है जगदम्बे काली | महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् | माता के भजन

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment