अमृत की बरसे बदरीया – भजन (Amrit Ki Barse Badariya Baba Ki Duariya)

jambh bhakti logo

अमृत की बरसे बदरीया,
बाबा की दुअरिया,
अमृत की बरसें बदरीया,
बाबा की दुअरिया ॥

दादुर मोर पपीहा बोले,
दादुर मोर पपीहा बोले,
कूके काली कोयलिया,
बाबा की दुअरिया,
अमृत की बरसें बदरीया,
बाबा की दुअरिया ॥

भगत बाबा की आरती की उतारे,
भगत बाबा की आरती की उतारे,
भीड़ है तेरी नगरिया,
बाबा की दुअरिया,
अमृत की बरसें बदरीया,
बाबा की दुअरिया ॥

चन्दन तिलक चाँद सा चमके,
चन्दन तिलक चाँद सा चमके,
राम जी देखे नजरिया,
बाबा की दुअरिया,
अमृत की बरसें बदरीया,
बाबा की दुअरिया ॥

ब्रह्मा विष्णु शंकर नाचे,
ब्रह्मा विष्णु शंकर नाचे,
मोहन बजाए बंसुरिया,
बाबा की दुअरिया,
अमृत की बरसें बदरीया,
बाबा की दुअरिया ॥

जिसने भी माँ की चौखट पे, सर को झुका लिया: भजन (Jisne Bhi Maa Ki Chaukhat Pe Sar Ko Jhuka Liya)

जरा फूल बिछा दो आँगन में, मेरी मैया आने वाली है: भजन (Jara Phool Bicha Do Aangan Mein Meri Maiya Aane Wali Hai)

हरि हरि हरि सुमिरन करो - भजन (Hari Hari Hari Sumiran Karo)

अमृत की बरसे बदरीया,
बाबा की दुअरिया,
अमृत की बरसें बदरीया,
बाबा की दुअरिया ॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment