जगमग जगमग जोत जली है, आरती श्री राम जी (Jagmag Jyot Jali Hai Shri Ram Aarti)

jambh bhakti logo

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन/आरती।

जगमग जगमग जोत जली है।
राम आरती होन लगी है॥

भक्ति का दीपक प्रेम की बाती।
आरति संत करें दिन राती॥

आनन्द की सरिता उभरी है।
जगमग जगमग जोत जली है॥

कनक सिंघासन सिया समेता।
बैठहिं राम होइ चित चेता॥

वाम भाग में जनक लली है।
जगमग जगमग जोत जली है॥

श्री झूलेलाल चालीसा (Shri Jhulelal Chalisa)

मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना - भजन (Mujhe Ras Agaya Hai Tere Dar Pe Sar Jhukana)

बहे असुवन की लंबी धार: भजन (Bahe Asuwan Ki Lambi Dhar )

आरति हनुमत के मन भावै।
राम कथा नित शंकर गावै॥

सन्तों की ये भीड़ लगी है।
जगमग जगमग जोत जली है॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment