श्यामा श्याम सलौनी सूरत – भजन (Shyama Shyam Saloni Surat)

jambh bhakti logo

श्यामा श्याम सलौनी
सूरत को शृंगार बसंती है ।
किशोरी श्याम सलोनी सूरत
को सिंगार बसंती है ।

मोर मुकुट की लटक बसंती
चंद्रकला की चटक बसंती,
मुख मुरली की मटक बसंती,
सिर पै पैंच श्रवण-कुंडल छविदार बसंती है ।

श्यामा श्याम सलौनी
सूरत को शृंगार बसंती है ।
किशोरी श्याम सलोनी सूरत,
को सिंगार बसंती है ।

माथे चन्दन लसियो बसंती,
पट पीताम्बर कसियो बसंती,
पहना बाजूबंद बसंती,
गुंजमाल गल सोहै फूलनहार बसंती है ।

श्यामा श्याम सलौनी
सूरत को शृंगार बसंती है ।
किशोरी श्याम सलोनी सूरत,
को सिंगार बसंती है ।

कनक कडूला हस्त बसंती,
चले चाल अलमस्त बसंती,
रुनक-झुनक पग नूपुर की झनकार बसंती है ।

किसलिए आस छोड़े कभी ना कभी - भजन (Kisliye Aas Chhauden Kabhi Na Kabhi)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 33 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 33)

हे शम्भू बाबा मेरे भोले नाथ - भजन (Hey Shambhu Baba Mere Bhole Nath)

श्यामा श्याम सलौनी
सूरत को शृंगार बसंती है ।
किशोरी श्याम सलोनी सूरत,
को सिंगार बसंती है ।

संग ग्वाल को गोलन बसंती,
बोल रहे हैं बोल बसंती,
सब सखियन में राधे जी सरदार बसंती हैं ।

श्यामा श्याम सलौनी
सूरत को शृंगार बसंती है ।
किशोरी श्याम सलोनी सूरत,
को सिंगार बसंती है ।

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment