राम के दुलारे, माता जानकी के प्यारे – भजन (Ram Ke Dulare, Mata Janki Ke Pyare)

jambh bhakti logo

जय सियाराम, बोलो जय सियाराम
जय सियाराम, बोलो जय सियाराम

राम के दुलारे,
माता जानकी के प्यारे,
तुम्हे नमन हजारो बार है ।
जय बोलो बजरंग बलि की,
आज मंगलवार है ॥

मंगल को जन्मे मंगल मूर्ति,
हनुमत मंगल कारी है ।
महा विशाला अति विकराला,
हनुमान बलधारी है ।
पवन बेग से उड़ने वाले,
मनुष तेज रफ्तार है ।
जय बोलो बजरंग बलि की,
आज मंगलवार है ॥

जय सियाराम, बोलो जय सियाराम
जय सियाराम, बोलो जय सियाराम

सिया के सेवक दास राम के,
सारी अवध के प्यारे हैं ।
दीन हीन साधू संतो के,
रक्षक है रखवारे हैं ।
त्रेता युग से इस कलयुग तक,
हो रही जय जय कार है ।
जय बोलो बजरंग बलि की,
आज मंगलवार है ॥

जय सियाराम, बोलो जय सियाराम
जय सियाराम, बोलो जय सियाराम

मंगल के दिन क्यों जाता है,
मंदिर में हनुमान के ।
शनि देव जी खुश रहिते हैं,
लकी उस इंसान से ।
उसके अब अविनाश के ऊपर,
किरपा की भरमार है ।
जय बोलो बजरंग बलि की,
आज मंगलवार है ॥

गंगा चालीसा (Ganga Chalisa)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

नौरता की रात मैया, गरबे रमवा आणो है: भजन (Norta ki Raat Maiya Garba Rambwa Aano Hai)

राम के दुलारे,
माता जानकी के प्यारे,
तुम्हे नमन हजारो बार है ।
जय बोलो बजरंग बलि की,
आज मंगलवार है ॥

हनुमान चालीसा | श्री हनुमान आरती | संकटमोचन अष्टक | बालाजी आरती | श्री राम स्तुति

◉ श्री हनुमंत लाल की पूजा आराधना में हनुमान चालीसा, बजरंग बाण और संकटमोचन अष्टक का पाठ बहुत ही प्रमुख माने जाते हैं।

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment