अवध में छाई खुशी की बेला: भजन (Avadh Me Chhai Khushi Ki Bela)

jambh bhakti logo

अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

चौदह साल वन में बिताएं,
राम लखन सिया लौट के आए,
घर घर खुशियां छाई,
लगा है, अवध पुरी में मेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

कौशल्या माँ सुमित्रा कैकई,
सबके मन में आज खुशी भई,
कोई नहीं है अकेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

सिया राम को राज हुआ है,
खुशी से पागल हो रहे सब जन,
गुरु वशिष्ठ और चेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।
BhaktiBharat Lyrics

शिव के रूप में आप विराजें, भोला शंकर नाथ जी: भजन (Shiv Ke Roop Mein Aap Viraje Bhola Shankar Nath Ji)

जय गणेश गणनाथ दयानिधि - भजन (Jai Ganesh Gananath Dayanidhi)

झुंझुनू वाली दादी, ममता की मूरत है: भजन (Jhunjhunu Wali Dadi Mamta Ki Murat Hai)

​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment