शेयर करे :

Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp

29 Rule Bishnoi ( 29 नियम बिश्नोई )

29 Rule Bishnoi ( 29 नियम बिश्नोई )

29 Rule Bishnoi ( 29 नियम बिश्नोई )
29 Rule Bishnoi ( 29 नियम बिश्नोई )

तीस दिन सुतक , पांच ऋतुवन्ती न्यारो ।

 सेरा करो स्नान शील संतोष सुचि प्यारो।

 द्विकाल संध्या और, सांझ आरती गुण गावो ।

 होम हित चित प्रीत ना होय , बस बैंकुण्ठा पावो ।

 पाणी बाणी धणी, दूध इतना लीजै छाण।

 क्षमा दया हिरदे धरो, गुरु बतायो जान ।

 चोरी निन्दा झूठ बरजियो, वाद न करणो कोय ।

 अमावस्या को वृत राखणो, भजन विष्णु बताया जोय ।

 जीव दया पालणी , रूंख लीलो नहीं घावै ।

अजर जरे जीवत मरै , सै वास स्वर्ग ही पावै ।

 करै रसोई हाथ सू, आन पलो न लावै ।

 अमर रखावै ठाट बैल बधिया न करावै ।

 अमल तंबाकू भांग , मद्य मांस सु दूर ही भागे।

 लील न लावै अंग , देखते दूर ही त्यागै ।

                           दोहा

 उन्नतीस धर्म  की आंखड़ी, हिरदे धरियो जोय।

 जाम्भोजी कृपा करी, राम विश्नोई होय।

हरी ॐ विष्णु, हरी ॐ विष्णु

शेयर करे :

Share on facebook
Facebook
Share on whatsapp
WhatsApp

जांभोजि द्वारा किए गए प्रश्न बिश्नोई समाज के बारे में?

 जांभोजि द्वारा किए गए प्रश्न बिश्नोई समाज के बारे में? भगवान श्री जाम्भोजी और उनके परम शिष्य रणधीर जी का प्रश्नोत्तर दिया गया है जिसका

Read More »