तुलसी आरती – महारानी नमो-नमो (Tulsi Aarti – Maharani Namo Namo)

माँ तुलसी पूजन, तुलसी विवाह एवं कार्तिक माह में माँ तुलसी की आरती सबसे अधिक श्रवण की जाती है।
तुलसी महारानी नमो-नमो,
हरि की पटरानी नमो-नमो ।

धन तुलसी पूरण तप कीनो,
शालिग्राम बनी पटरानी ।
जाके पत्र मंजरी कोमल,
श्रीपति कमल चरण लपटानी ॥

धूप-दीप-नवैद्य आरती,
पुष्पन की वर्षा बरसानी ।
छप्पन भोग छत्तीसों व्यंजन,
बिन तुलसी हरि एक ना मानी ॥

सभी सखी मैया तेरो यश गावें,
भक्तिदान दीजै महारानी ।
नमो-नमो तुलसी महारानी,
तुलसी महारानी नमो-नमो ॥

ऊँचे ऊँचे पर्वत पे, शारदा माँ का डेरा है: भजन (Unche Unche Parvat Pe Sharda Maa Ka Dera Hai)

श्री सूर्य देव - ऊँ जय सूर्य भगवान (Shri Surya Dev Om Jai Surya Bhagwan)

राम दरबार है जग सारा: भजन (Ram Darbar Hai Jag Sara)

तुलसी महारानी नमो-नमो,
हरि की पटरानी नमो-नमो ।

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment