श्री शाकुम्भरी देवी जी की आरती (Shakumbhari Devi Ki Aarti)

jambh bhakti logo

हरि ओम श्री शाकुम्भरी अंबा जी की आरती क़ीजो
एसी अद्वभुत रूप हृदय धर लीजो
शताक्षी दयालू की आरती किजो
तुम परिपूर्ण आदि भवानी माँ,
सब घट तुम आप भखनी माँ
शकुंभारी अंबा जी की आरती किजो

तुम्ही हो शाकुम्भर,
तुम ही हो सताक्षी माँ
शिवमूर्ति माया प्रकाशी माँ
शाकुम्भरी अंबा जी की आरती किजो

नित जो नर नारी अंबे आरती गावे माँ
इच्छा पूरण किजो,
शाकुम्भर दर्शन पावे माँ
शाकुम्भरी अंबा जी की आरती किजो

जो नर आरती पढ़े पढ़ावे माँ,
जो नर आरती सुनावे माँ
बस बैकुण्ठ शाकुम्भर दर्शन पावे
शाकुम्भरी अंबा जी की आरती किजो

तेरा पल पल बीता जाए - भजन (Tera Pal Pal Beeta Jay Mukhse Japle Namah Shivay)

कावड़ उठाले ध्यान, शिव का लगा ले - भजन (Kawad Utha Le Dhyan Shiv Ka Laga Le)

ओढ़ के चुनरिया लाल, मैया जी मेरे घर आना: भजन (Odh Ke Chunariya Lal Maiya Ji Mere Ghar Aana)

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment