मंत्र: अलसस्य कुतः विद्या (Alasasya Kutah Vidya)

jambh bhakti logo

अलसस्य कुतः विद्या,
अविद्यस्य कुतः धनम्।
अधनस्य कुतः मित्रम्अ,
मित्रस्य कुतः सुखम् ॥

हिन्दी भावार्थ:
आलसी इन्सान को विद्या कहाँ।
विद्याविहीन/अनपढ़/मूर्ख को धन कहाँ।
धनविहीन/निर्धन को मित्र कहाँ।
और मित्रविहीन/अमित्र को सुख कहाँ।

बेटी हूँ ना मैं तेरी श्याम दर पे बुला लेना (Beti hoon na main teri shyam dar pe bula lena)

ओ राही रुक जाना, जहाँ चितचोर बसे, उस राह पे मत जाना: भजन (O Rahi Ruk Jana Jaha Chitchor Base Us Raah Pe Mat Jana)

राम का नाम लो: भजन (Ram Ka Naam Lo )

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment