वृंदावन जाने को जी चाहता है – भजन (Vrindavan Jane Ko Jee Chahta Hai)

jambh bhakti logo

वृंदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है ।

वृदावन मेरे बांके बिहारी,
बांके बिहारी की लीला है न्यारी,
ये नैना लड़ाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
वृदावन जाने को जी चाहता है ।

वृंदावन में यमुना किनारा
मेरा डुबकी लगाने को जी चाहता है
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
वृदावन जाने को जी चाहता है ।

वृंदावन में निधिवान है प्यारा
मेरा रास रचाने को जी चाहता है
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
वृदावन जाने को जी चाहता है ।

वृदावन में संत बहुत है,
वृदावन में भगत बहुत है,
संत बहुत है रसिक बहुत है,
शीश झुकाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
वृदावन जाने को जी चाहता है ।

बिश्नोई पंथ की स्थापना भाग 1

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 14 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 14)

सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप की - भजन (Sari Duniya Hai Diwani Radha Rani Aapki)

वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment