तुम्हारी याद आती है, बताओ क्या करें मोहन – भजन (Tumhari Yaad Aati Hai Batao Kya Karen Mohan)

jambh bhakti logo

तुम्हारी याद आती है,
बताओ क्या करें मोहन,
तुम्हारी याद आती हैं,
बताओ क्या करें मोहन ॥

सुबह और शाम आती हैं,
रात भर वो रुलाती हैं,
चैन हमको नही आता,
चैन हमको नही आता,
बताओ क्या करें मोहन,
तुम्हारी याद आती हैं,
बताओ क्या करें मोहन ॥

चलूँ जब वो न चलने दे,
रूकूं जब वो न रुकने दे,
मिलूँ औरों से न मिलने दे,
मिलूँ औरों से न मिलने दे,
बताओ क्या करें मोहन,
तुम्हारी याद आती हैं,
बताओ क्या करें मोहन ॥

तुम्हारी ये और तुम इसके,
हमारी कौन चलने दे,
ये जब जाएगी तुम आओ,
ये जब जाएगी तुम आओ,
बताओ क्या करें मोहन,
तुम्हारी याद आती हैं,
बताओ क्या करें मोहन ॥

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)

मधुराष्टकम्: अधरं मधुरं वदनं मधुरं (Madhurashtakam Adhram Madhuram Vadnam Madhuram)

आरती: श्री रामायण जी (Shri Ramayan Ji)

तुम्हारी याद आती है,
बताओ क्या करें मोहन,
तुम्हारी याद आती हैं,
बताओ क्या करें मोहन ॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment