तेरे दर पे ओ मेरी मईया: भजन (Tere Dar Pe O Meri Maiya)

jambh bhakti logo

तेरे दर पे ओ मेरी मईया,
तेरे दीवाने आए हैं,
भर दे झोली मईया भोली,
बिगड़ी बनाने आए हैं,
तेरे दर पे ओ मेरी मैया,
तेरे दीवाने आए हैं ॥

हो जाए करम उसपे जपे,
जो तेरी माला,
तू चाहे तो खुल जाए,
तकदीर का ताला,
माँ की ज्योति से,
नूर मिलता है,
चैन मिलता है,
सुरूर मिलता है,
जो भी आता है,
मईया जी तेरे दर पे,
कुछ ना कुछ तो,
जरूर मिलता है,
अपने भक्तों से,
तू तो प्यार करें,
बेटा रूठे ना,
इतनी दुलार करें,
ममता तेरे आंचल का माँ,
हम तो पाने आए हैं,
तेरे दर पें ओं मेरी मईया,
तेरे दीवाने आए हैं ॥

तेरे दर पे माँ भिखारी भी,
धनवान हो जाए,
निर्बल भी शक्ति पाके,
तो बलवान हो जाए,
माँ गिरते को,
तुमने थाम लिया,
बेसहारों को भी सहारा दिया,
उसके किस्मत सवर गई,
जिसने सच्चे दिल से मईया जी,
तेरा नाम लिया,
अर्जी सुन ले तू,
बेटे की मैया,
पार लगा दे तू,
जीवन की नैया,
हाले दिल अपना ओ मईया,
तुझको सुनाने आए है,
भर दे झोली मईया भोली,
बिगड़ी बनाने आए हैं,
तेरे दर पें ओं मेरी मईया,
तेरे दीवाने आए हैं ॥

तेरे दर पे ओ मेरी मईया,
तेरे दीवाने आए हैं,
भर दे झोली मईया भोली,
बिगड़ी बनाने आए हैं,
तेरे दर पे ओ मेरी मैया,
तेरे दीवाने आए हैं ॥

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

श्री उमा महेश्वर स्तोत्रं (Shri Uma Maheswara Stotram)

सज धज के बैठी है माँ, लागे सेठानी: भजन (Saj Dhaj Ke Baithi Hai Maa Laage Sethani)

दुर्गा चालीसा | आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी | आरती: अम्बे तू है जगदम्बे काली | महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् | माता के भजन

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment