राम आ गए, धन्य भाग्य शबरी हर्षाए: भजन (Ram Aa Gaye Dhanya Bhagya Sabari Harshaye)

jambh bhakti logo

राम आ गए,
धन्य भाग्य शबरी हर्षाए ॥

आँखों में प्रेम आंसू,
चरणों को धो रही है,
मारे ख़ुशी के शबरी,
व्याकुल सी हो रही है,
क्या लाऊँ क्या खिलाऊँ,
कुछ भी समझ ना आए,
राम आ गये,
धन्य भाग्य शबरी हर्षाए ॥

वन से जो तोड़कर वो,
दोना में बेर लायी,
सकुचा के मन में शबरी,
श्री राम को बढ़ाई,
श्री राम को दिया जब,
तो भी लखन ना खाए,
राम आ गये,
धन्य भाग्य शबरी हर्षाए ॥

राम आ गए,
धन्य भाग्य शबरी हर्षाए ॥

श्री गुरु जम्भेश्वर भगवान की बाल लीला भाग 4

हे जगवंदन गौरी नन्दन, नाथ गजानन आ जाओ: भजन (Hey Jag Vandan Gauri Nandan Nath Gajanan Aa Jao)

जाट वर्ग तथा समराथल ...... समराथल कथा भाग 7

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment