पूछ रही राधा बताओ गिरधारी – भजन (Pooch Rahi Radha Batao Girdhari)

jambh bhakti logo

पूछ रही राधा बताओ गिरधारी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

गोकुल में छुप छुप के माखन चुरायो,
ग्वाल वाल संग मिल बाँट के खायो ।
दर्शन की प्यासी ये राधा वेचारी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

पूछ रही राधा बताओ गिरधारी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

दिन सारा घूम बिन दामन भटको,
मुझसे दूर दूर रह तुम छतक्यों ।
अच्छी लगी तुम को ये ग्वालिन की गाड़ी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

पूछ रही राधा बताओ गिरधारी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

धरती गगन में होती है: भजन (Dharti Gagan Mein Hoti Hai)

कितना प्यारा है सिंगार - भजन (Kitna Pyara Hai Singar)

मेरी भावना: जिसने राग-द्वेष कामादिक - जैन पाठ (Meri Bawana - Jisne Raag Dwesh Jain Path)

कान्हा तेरे बोले से मधु कप क्त है,
संवारी सूरतियाँ से रस बरसत है ।
श्याम का है देते मेरी सुध विसारी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

पूछ रही राधा बताओ गिरधारी,
मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी ।

आरती कुंजबिहारी की | आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन | श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं | आरती श्री बाल कृष्ण जी की | ॐ जय जगदीश हरे | मधुराष्टकम्: धरं मधुरं वदनं मधुरं | कृष्ण भजन | अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं | श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment