नमामि-नमामि अवध के दुलारे – भजन (Namami Namami Awadh Ke Dulare)

jambh bhakti logo

नमामि-नमामि अवध के दुलारे ।
खड़ा हाथ बांधे मैं दर पर तुम्हारे ॥
न करता हूं भक्ति न जप योग साधन ।
कैसे कटेंगे यह माया के बंधन ॥
दुःखी दीन हो के यह मनवा पुकारे ॥
नमामि-नमामि अवध के दुलारे ।

भंवर में पड़ी आ के नैया यह मेरी ।
सहारा न दूजा है इक आस तेरी ॥
तू बन के खिवैया लगा दे किनारे ॥
नमामि-नमामि अवध के दुलारे ।

मैं कामी हूं क्रोधी हूं लोभी अवारा ।
लिया नाम दिल से कभी न तुम्हारा ॥
दया कर क्षमा कर तू बख्श बख्शन हारे ॥
नमामि-नमामि अवध के दुलारे ।
BhaktiBharat Lyrics

बिनती यही है प्रभु के चरण में ।
आये हैं हम सब तुम्हारी शरण में ॥
करो दूर अवगुण जो होवें हमारे ॥
नमामि-नमामि अवध के दुलारे ।

मंत्र: प्रातः स्मरण - दैनिक उपासना (Pratah Smaran Dainik Upasana)

षटतिला एकादशी व्रत कथा (Shat Tila Ekadashi Vrat Katha)

वृंदावन जाने को जी चाहता है - भजन (Vrindavan Jane Ko Jee Chahta Hai)

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment