नैनन में श्याम समाए गयो – भजन (Nainan Me Shyam Samay Gayo)

jambh bhakti logo

नैनन में श्याम समाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ।

नैनन में श्याम समाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ।

लुट जाउंगी श्याम तेरी लटकन पे,
बिक जाउंगी लाल तेरी मटकन पे ।
मोरे कैल गरारे भाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ॥

नैनन में श्याम समाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ।

मर जाउंगी काहन तेरी अधरन पे,
मिल जाउंगी तेरे नैनन पे ।
वो तो तिर्शी नज़र चलाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ॥

नैनन में श्याम समाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ।

बलिहारी कुंवर तेरी अलकन पे,
तेरी बेसर की मोती छलकन पे ।
सपने में कहा पत्राए गायो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ॥

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के - भजन (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

अनमोल तेरा जीवन, यूँ ही गँवा रहा है: भजन (Anmol Tera Jeevan Yuhi Ganwa Raha Hai)

दर्शन दिया, मुझे दर्शंन दिया - भजन (Darshan Diya Ho Mujhe Darshan Diya)

नैनन में श्याम समाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ।

पागल को प्यारो वो नंदलाला,
दीवाना भाए है जाके सब ग्वाला ।
वो तो मधुर मधुर मुस्काये गायो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ॥

नैनन में श्याम समाए गयो,
मोहे प्रेम का रोग लगाए गयो ।

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment