मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ: भजन (Main Do-Do Maa Ka Beta Hun)

jambh bhakti logo

मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ,
दोनों मैया बड़ी प्यारी है ।
एक माता मेरी जननी है,
एक जग की पालनहारी है ॥

मैं जननी को जब माँ कहता,
वो सिर पर हाथ फिराती है ।
त्रिशूल रुपणी दादी को,
वो जगमाता बतलाती है ।
मैं उसकी गोद में जाता हूँ,
वो तेरी शरण दिखलाती है ।
अब शरण में तेरी आया हूँ,
तू क्यों नहीं गले लगाती है ॥
॥ मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ…॥

मेरी जननी ओझल हुई,
पर तुम तो समाने हो मेरे ।
वो इसी भरोसे छोड़ गई,
कि तुम तो साथ में हो मेरे ।
अब दिल जो माँ को याद करे,
वो सीधे तेरे दर जाए ।
हे जग जननी तेरी छवि में ही,
मेरी मैया मुझे नजर आए ॥
॥ मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ…॥

जनंनी ने मुझको जन्म दिया,
तुम बन के यशोदा पाली हो ।
मेरी जनंनी की भी जननी तुम,
दादीजी झुंझुनुवाली हो ।
वो लोरी मुझे सुनाती है,
तुम सत्संग मुझे कराती हो ।
वो भोजन मुझे खिलाती है,
तुम छप्पन भोग जिमाती हो ॥
॥ मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ…॥

प्रेरक कथा: विवाह के कार्ड पे लड़का-चिरंजीव तथा लड़की-आयुष्मति क्यों लिखा जाता है? (Prerak Katha Vivah Ke Card Pe Ladaka Chiranjiv Aur Ladaki Ayushmati)

मेरे भोले बाबा की नगरिया मे - भजन (Mere Bhole Baba Ki Nagariya Me)

कावड़ उठाले ध्यान, शिव का लगा ले - भजन (Kawad Utha Le Dhyan Shiv Ka Laga Le)

मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ,
दोनों मैया बड़ी प्यारी है ।
एक माता मेरी जननी है,
एक जग की पालनहारी है ॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment