कण-कण में है राम समाया, जान सके तो जान: भजन (Kan Kan Me Hai Ram Samaya Jan Sake Too Jan)

jambh bhakti logo

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

एक ईश्वर की खातिर,
लाखो मंदिर अच्छे-अच्छे,
कड़ी धुप में छाया खातिर,
बिलख रहे है बच्चे,
उसके अंदर बोल रहे प्रभु,
उसको तो पहचान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

पत्थर पे हो नाम हमारा,
करे दिखावा दान,
दरिद्र बन के जांच रहा है,
नारायण भगवान,
लेके कटोरा हाथ फैलाये,
उधर करो कुछ ध्यान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

त्रिस्पृशा एकादशी महायोग कथा (Trisparsha Ekadashi Mahayog Katha)

इस योग्य हम कहाँ हैं, गुरुवर तुम्हें रिझायें: भजन (Is Yogya Ham Kahan Hain, Guruwar Tumhen Rijhayen)

एक डाल दो पंछी बैठा: भजन (Ek Daal Do Panchhi Re Baitha)

फणी है ईश्वर,
अंदर आकर बैठा प्राण,
बाहर तू गंगाजल चढ़ावे,
अंदर मदिरा-पान,
रोज हो रहा तेरे हाथों,
ईश्वर का अपमान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment