झुंझुनू वाली दादी, ममता की मूरत है: भजन (Jhunjhunu Wali Dadi Mamta Ki Murat Hai)

jambh bhakti logo

झुंझुनू वाली दादी,
ममता की मूरत है,
सारे जग से दादी माँ,
तेरी प्यारी सूरत है,
झुंझनू वाली दादी,
ममता की मूरत है ॥

जिसने जो भी माँगा,
दादी तुमसे पाया,
हर पल रहती दादी,
तेरी ममता की छाया,
हर जनम में दादी माँ,
हमें तेरी जरूरत है,
झुंझनू वाली दादी,
ममता की मूरत है ॥

हे अमर सुहागण माँ,
जग की सेठानी है,
हम दीन दुखी दर के,
तू जग धणियाणी है,
तुझसे ही श्रष्टि माँ,
ये सारी कुदरत है,
झुंझनू वाली दादी,
ममता की मूरत है ॥

श्रृंगार की शोभा माँ,
लगती बड़ी प्यारी है,
सर पे चुनड़ी हाथां,
मेहन्दी की लाली है,
‘कुंदन’ कहे दादी से,
तू संसार की पूरक है,
झुंझनू वाली दादी,
ममता की मूरत है ॥

झुंझुनू वाली दादी,
ममता की मूरत है,
सारे जग से दादी माँ,
तेरी प्यारी सूरत है,
झुंझनू वाली दादी,
ममता की मूरत है ॥

अहोई अष्टमी व्रत कथा (Ahoi Ashtami Vrat Katha)

वैशाख संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत कथा (Vaishakh Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Katha)

भगवद्‍ गीता आरती (Aarti Shri Bhagwat Geeta)

दुर्गा चालीसा | आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी | आरती: अम्बे तू है जगदम्बे काली | महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् | माता के भजन

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment