जय हो, जय हो महाकाल राजा: भजन (Jai Ho Jai ho Mahakal Raja)

jambh bhakti logo

जय हो जय हो महाकाल राजा,
तेरी किरपा की छाई है छाया ।
जय हो जय हो महाकाल राजा,
तेरी किरपा की छाई है छाया ।
हर तरफ तू ही तू है समाया,
धन्य तेरी है तेरी ही माया ।
जय हो जय हो महाकाल राजा,
तेरी किरपा की छाई है छाया ।

तुमने देवो को अमृत दिया है,
आपने खुद ही विष को पिया है ॥
देवताओं का मान बडाया,
सागरमंथन के विष से बचाया ॥

जय हो जय हो महाकाल राजा,
तेरी किरपा की छाई है छाया ॥

वरदानी हो भोले कैलाशी,
डमरू वाले है काशी के वासी ॥
गले सर्पो का हार सजाया,
सर भभुति का टीका लगाया ॥

जय हो जय हो महाकाल राजा,
तेरी किरपा की छाई है छाया ॥

ऋषि पंचमी व्रत कथा (Rishi Panchami Vrat Katha)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 9 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 9)

सुनो मैया मेरी सरकार, दास तेरा हो जाऊं: भजन (Suno Maiya Meri Sarkar Daas Tera Ho Jaun)

भोले जिसने भी तुमको पुकारा,
तुमने उनको दिया है सहारा ॥
सारे भगतो का मान बड़ाया,
तेरे चरणो में शिवाजी आया ॥

जय हो जय हो महाकाल राजा,
तेरी किरपा की छाई है छाया ॥
Singer: Shivaji Patil

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment