दादी नाचण दे तेरे भक्ता ने: भजन (Dadi Nachan De Tere Bhakta Ne)

jambh bhakti logo

दादी नाचण दे तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें,
कीर्तन माहि आज छा गई,
कीर्तन माहि आज छा गई,
बागा की बहार,
दादी नाचण दें,
दादी नाचण दें तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें ॥

रंग बिरंगा गजरा सु,
श्रृंगार सज्यो है प्यारो जी,
सुरगा से भी न्यारो लागे,
सुरगा से भी न्यारो लागे,
यो तेरो दरबार,
दादी नाचण दें,
दादी नाचण दें तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें ॥

देख देख श्रृंगार भवानी,
भक्ता रो मन हरषे जी,
टाबरिया थारा आज खड़्या है,
टाबरिया थारा आज खड़्या है,
नाचण ने तैयार,
दादी नाचण दें,
दादी नाचण दें तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें ॥

ठुमक ठुमक कर नाचा दादी,
थाने आज रिझास्या जी,
ताल सु ताल मिलासी म्हारे,
ताल सु ताल मिलासी म्हारे,
घुंगरू की झंकार,
दादी नाचण दें,
दादी नाचण दें तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें ॥

‘हर्ष’ कहे माँ टाबरिया ने,
मत ना रोको टोको जी,
आज भवानी झूम के नाचा,
आज भवानी झूम के नाचा,
भूल में म्हे घरबार,
दादी नाचण दें,
दादी नाचण दें तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें ॥

मुझे खाटू बुलाया है: भजन (Mujhe Khatu Bulaya Hai)

हे शिव शम्भू नमस्तुभ्यं: भजन (Hey Shiv Shambhu Namastubhyam)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 10 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 10)

दादी नाचण दे तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें,
कीर्तन माहि आज छा गई,
कीर्तन माहि आज छा गई,
बागा की बहार,
दादी नाचण दें,
दादी नाचण दें तेरे भक्ता ने,
तेरो खूब सज्यो श्रृंगार,
दादी नाचण दें ॥

दुर्गा चालीसा | आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी | आरती: अम्बे तू है जगदम्बे काली | महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् | माता के भजन

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment