भक्ति की झंकार उर के – प्रार्थना (Bhakti Ki Jhankar Urke Ke Taron Main: Prarthana)

jambh bhakti logo

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ।
भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

लौट जाए स्वार्थ, कटुता,
द्वेष, दम्भ निराश होकर ।
शून्य मेरे मन भवन में,
देव! इतना प्यार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

बात जो कह दूं, हृदय में,
वो उतर जाये सभी के ।
इस निरस मेरी गिरा में,
वह प्रभाव अपार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

कृष्ण के सदृश सुदामा,
प्रेमियों के पांव धोने ।
नयन में मेरे तरंगित,
अश्रु पारावार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

महल को देख डरे सुदामा - भजन (Mahal Ko Dekh Dare Sudama)

देखो आ गए है घर घर में, पार्वती के लल्ला: भजन (Dekho Aa Gaye Hai Ghar Ghar Mein Parvati Ke Lalla)

धन जोबन और काया नगर की - भजन (Dhan Joban Aur Kaya Nagar Ki)

पीड़ितों को दूँ सहारा,
और गिरतों को उठा लूँ ।
बाहुओं में शक्ति ऐसी,
ईश सर्वाधार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

रंग झूठे सब जगत के,
ये “प्रकाश” विचार देखा ।
क्षुद्र जीवन में सुघड़ निज,
रंग परमोदार भर दो ॥

भक्ति की झंकार उर के,
तारों में कर्त्तार भर दो ॥

Picture of Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment