महेश वंदना: किस विधि वंदन करू तिहारो – भजन (Kis Vidhi Vandan Karun Tiharo Aughardani)

jambh bhakti logo

किस विधि वंदन करू तिहारो,
औघड़दानी त्रिपुरारी
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥

नयन तीन उपवीत भुजंगा,
शशि ललाट सोहे सिर गंगा
मुंड माल गल बिच विराजत,
महिमा है भारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 1 ॥

कर में डमरू त्रिशुल तिहारे,
कटी में हर वाघंबर धारे
उमा सहित हीम शैल विराजत,
शोभा है न्यारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 2 ॥

पल में प्रभु तुम प्रलयंकर,
पर प्रभो सदय उभयंकर
ऋषी मुनि भेद न पाये तिहारो,
हम तो है संसारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 3 ॥

अगम निगम तब भेद न जाने,
ब्रम्हा विष्णु सदा शिव माने
देवो के ओ महादेव अब,
रक्षा करो हमारी ।
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥ 4 ॥

सियारानी का अचल सुहाग रहे - भजन (Bhajan: Siyarani Ka Achal Suhag Rahe)

मन तेरा मंदिर आँखे दिया बाती - आरती (Man Tera Mandir Ankhen Diya Bati)

प्रार्थना: हे जग त्राता विश्व विधाता! (He Jag Trata Vishwa Vidhata)

किस विधि वंदन करू तिहारो,
औघड़दानी त्रिपुरारी
बलिहारी – बलिहारी
जय महेश बलिहारी ॥

श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र | शिव चालीसा | आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment