जो सुमिरत सिधि होइ – भजन (Jo Sumirat Siddhi Hoi)

jambh bhakti logo

श्री रामायण प्रारम्भ स्तुति,
जो सुमिरत सिधि होइ गन नायक करिबर बदन ॥
करउ अनुग्रह सोइ बुद्धि रासि सुभ गुन सदन ॥ 1 ॥

मूक होइ बाचाल पंगु चढइ गिरिबर गहन ॥
जासु कृपाँ सो दयाल द्रवउ सकल कलि मल दहन ॥ 2 ॥

नील सरोरुह स्याम तरुन अरुन बारिज नयन ॥
करउ सो मम उर धाम सदा छीरसागर सयन ॥ 3 ॥

कुंद इंदु सम देह उमा रमन करुना अयन ॥
जाहि दीन पर नेह करउ कृपा मर्दन मयन ॥ 4 ॥

लागी लागी है लगन म्हाने श्याम नाम की: भजन (Lagi Lagi Hai Lagan Mahne Shyam Naam Ki)

भगवान तुम्हारे चरणों में, मैं तुम्हे रिझाने आया हूँ - भजन (Bhagwan Tumhare Charno Mein Main Tumhe Rijhane Aaya Hun)

ओढ़ के चुनरिया लाल, मैया जी मेरे घर आना: भजन (Odh Ke Chunariya Lal Maiya Ji Mere Ghar Aana)

बंदउ गुरु पद कंज कृपा सिंधु नररूप हरि ॥
महामोह तम पुंज जासु बचन रबि कर निकर ॥ 5 ॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment