दर्शन दिया, मुझे दर्शंन दिया – भजन (Darshan Diya Ho Mujhe Darshan Diya)

jambh bhakti logo

भोले शंकर भोले,
तुझे पूजे दुनिया सारी रे,
तीनो लोक में भोले,
तेरी महिमा न्यारी रे,
भोले शंकर भोले,
तुझे पूजे दुनिया सारी रे,
दर्शन दिया,
मुझे दर्शंन दिया,
शिव शंकर मुझसे आन मिले,
पल भर में मेरे भाग्य खुले,
तीनो लोक के नाथ ने दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया ॥

भोली भाली सूरत वाले,
वो तेज भरी मूरत वाले,
एक हाथ में उनके डमरू था,
हाँ उनकी छवि में जादू था,
देख लिया मैने देख लिया,
दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया,
शिव शंकर मुझसे आन मिले,
पल भर में मेरे भाग्य खुले,
तीनो लोक के नाथ ने दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया ॥

विष को अमृत करने वाले,
वो रूप नये भरने वाले,
थी साथ में उनके पार्वती,
आराध्य मेरे मन की देवी,
देखा किया मैं तो देखा किया,
दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया,
शिव शंकर मुझसे आन मिले,
पल भर में मेरे भाग्य खुले,
तीनो लोक के नाथ ने दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया ॥

पहले तो सर पे हाथ रखा,
फिर मुझको आशीर्वाद दिया,
गिर गया मैं उनके चरणों में,
शिवजी ने उठाया बाहों में,
भाग्य जगा मेरा भाग्य जगा,
दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया,
शिव शंकर मुझसे आन मिले,
पल भर में मेरे भाग्य खुले,
तीनो लोक के नाथ ने दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया ॥

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

मैं लाडली शेरोवाली की: भजन (Main Ladli Sherowali Ki)

भोले शंकर भोले,
तुझे पूजे दुनिया सारी रे,
तीनो लोक में भोले,
तेरी महिमा न्यारी रे,
भोले शंकर भोले,
तुझे पूजे दुनिया सारी रे,
दर्शन दिया,
मुझे दर्शंन दिया,
शिव शंकर मुझसे आन मिले,
पल भर में मेरे भाग्य खुले,
तीनो लोक के नाथ ने दर्शंन दिया,
मुझे दर्शंन दिया ॥

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment