अवध में छाई खुशी की बेला: भजन (Avadh Me Chhai Khushi Ki Bela)

jambh bhakti logo

अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

चौदह साल वन में बिताएं,
राम लखन सिया लौट के आए,
घर घर खुशियां छाई,
लगा है, अवध पुरी में मेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

कौशल्या माँ सुमित्रा कैकई,
सबके मन में आज खुशी भई,
कोई नहीं है अकेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

सिया राम को राज हुआ है,
खुशी से पागल हो रहे सब जन,
गुरु वशिष्ठ और चेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।
BhaktiBharat Lyrics

गजाननं भूत गणादि सेवितं - गणेश मंत्र (Gajananam Bhoota Ganadhi Sevitam)

मैं भोला पर्वत का - शिव भजन (Main Bhola Parvat Ka)

अमृत की बरसे बदरीया - भजन (Amrit Ki Barse Badariya Baba Ki Duariya)

​अवध में छाई खुशी की बेला,
​अवध में छाई खुशी की बेला,
लगा है, अवध पुरी में मेला ।

Sandeep Bishnoi

Sandeep Bishnoi

Leave a Comment