गुरु आसन समराथल भाग 3 ( Samarathal Dhora )

गुरु आसन समराथल भाग 3 ( Samarathal Dhora )                   गुरु आसन समराथल भाग 3 (Samarathal Dhora ) मेरे पास पापो का

गुरु आसन समराथल भाग 2 ( Samarathal Katha )

गुरु आसन समराथल भाग 2 ( Samarathal Katha ) गुरु आसन समराथल भाग 2 ( Samarathal Katha ) हे कृष्ण! भजन योग्य तो भगवान है उसका भजन नहीं किया, सुनने

सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 3

सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 3               सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 3 सैंसे भक्त के साथ उपस्थित जमाती के लोगों ने पूछा- हे गुरुदेव!

सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 2

सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 2              सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 2 गृहलक्ष्मी कहने लगी- हे योगी। खिड़की पकड़े हुए क्यों खड़ा है? जिस

सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 1

सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 1                सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 1 वील्हो उवाच- हे गुरुदेव! आपने मुझे अब तक जाम्भोजी के जीवन

जैतसी का मुकाम मन्दिर में आगमन

जैतसी का मुकाम मन्दिर में आगमन              जैतसी का मुकाम मन्दिर में आगमन विल्हो उवाच -हे गुरु देव क्या सिद्धेश्वर साक्षात विष्णु स्वरूप जाम्भोजी हम

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 5

जाम्भोजी का भ्रमण                जाम्भोजी का भ्रमण  भाग 5 राजा ने प्रार्थना करते हुए कहा- हे देव। आप अपने शिष्यों के सहित हमारे राजमहल

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 4

जाम्भोजी का भ्रमण  भाग 4               जाम्भोजी का भ्रमण  भाग 4 एक सम वीसनोई गंगापार पूरब का अरज कोवी। जांभाजी ! तुरकाणी को जोर है।

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 3

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 3               जाम्भोजी का भ्रमण भाग 3 जय हो लोहट के लाला की। जो हमारे जैसे दास पर कृपालु हुए है।

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 2

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 2                जाम्भोजी का भ्रमण भाग 2 इब्राहिम ने कहा- यदि अंदर बंद नहीं कर सकते तो इस फकीर की

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 1

जाम्भोजी का भ्रमण भाग 1                   जाम्भोजी का भ्रमण भाग 1 पश्चिम देशों का भ्रमण करके श्री देवजी समराथल पर विराजमान हुऐ।

गुरु आसन समराथल भाग 3 ( Samarathal Dhora )
0
गुरु आसन समराथल भाग 2 ( Samarathal Katha )
0
गुरु आसन समराथल भाग 1 ( Samarathal Katha )
0
सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 3
0
सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 2
0
सेंसेजी का अभिमान खंडन भाग 1
0
जैतसी का मुकाम मन्दिर में आगमन
0
जाम्भोजी का भ्रमण भाग 5
0
जाम्भोजी का भ्रमण भाग 4
0
जाम्भोजी का भ्रमण भाग 3
0
जाम्भोजी का भ्रमण भाग 2
0
जाम्भोजी का भ्रमण भाग 1
0

Recent Posts

जाम्भोजी तथा रणधीर के प्रश्न तथा उत्तर

 प्रश्न 71. गुरुदेव ! आप सूतल लोक में कितने समय तक रहे ?  उत्तर- रणधीर ! मैं सूतल लोक में चालीस दिनों तक रहा सूतल लोक में पाहल बनाकर चार

जाम्भोजी तथा रणधीर के प्रश्न तथा उत्तर

प्रश्न 51. गुरुदेव ! आपके प्रथम शब्दोपदेश का अर्थ हम छोटी बुद्धि के लोग कुछ समझे नहीं, आप कृपा करके हमें समझाइये ?  उत्तर- रणधीर ! "गुरु चीन्हों" उपस्थित सारे

रणधीर के प्रश्न तथा जाम्भोजी के उत्तर

 प्रश्न 24. गुरुदेव ! परमात्मा व जीवात्मा में क्या अन्तर है ? उत्तर - रणधीर ! परमात्मा व जीवात्मा में सत्ता रूप में कोई भेद नहीं है। परन्तु शासक-शासित का

रणधीर के प्रश्न तथा जाम्भोजी के उत्तर

जाम्भोजी के प्रश्न  प्रश्न 24. गुरुदेव ! परमात्मा व जीवात्मा में क्या अन्तर है ? उत्तर - रणधीर ! परमात्मा व जीवात्मा में सत्ता रूप में कोई भेद नहीं है।

जाम्भोजी और रणधीर के प्रश्न

जाम्भोजी और रणधीर के प्रश्न 2. रणधीर ने पूछा- गुरुदेव ! प्रहलाद कौन था ? और उसको वरदान क्यों देना पड़ा ? उत्तर- भगवान बोले- रणधीर ! प्रहलाद हिरण्यकश्यपु का

Blogs

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Ut elit tellus, luctus nec ullamcorper mattis, pulvinar dapibus leo.